x
बिजनेस

जाने क्यों नहीं मिल रहा अमूल का मक्खन


सरकारी योजना के लिए जुड़े Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

नई दिल्ली – अमूल मक्खन दुकानों में यह मक्खन नहीं मिल रहा है और लोगों को दूसरे विकल्पों का सहारा लेना पड़ रहा है। अमूल ब्रांड के प्रॉडक्ट्स (Amul Products) की मार्केटिंग करने वाली कंपनी गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (GCMMF) के एमडी आर एस सोढ़ी ने इसकी वजह बताई है। उन्होंने कहा कि इस बार दिवाली (Diwali) में मक्खन की जबरदस्त मांग रही। कुछ डिस्ट्रीब्यूटर्स ने इसका अनुमान नहीं लगाया था।

दिवाली में मांग उम्मीद से कहीं ज्यादा रही। इस वजह से मक्खन की शॉर्टेज देखने को मिल रही है। कंपनी ने प्रॉडक्शन बढ़ा दिया है और अगले कुछ दिनों में स्थिति सामान्य हो जाएगी। Statista के मुताबिक भारत में बटर मार्केट 6.86 अरब डॉलर का है। 2022-27 के बीच इसके सालाना 5.24 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है। उन्होंने कहा, ‘इस बार दिवाली में जबरदस्त डिमांड रही। कुछ डिस्ट्रीब्यूटर्स को इसका अनुमान नहीं था। इससे टेम्पररी शॉर्टेज हुई।

लिक्विड मिल्क प्रॉडक्शन कंपनी की प्राथमिकता है। जब भी इसकी मांग बढ़ी तो हमने मिल्क फैट के लिए आवंटन बढ़ा दिया। इस कारण हम बटर का प्रॉडक्शन नहीं बढ़ा पाए। लेकिन शॉर्टेज कुछ दिन के लिए थी और अब स्थिति सामान्य है। लेकिन दुकानों में अब भी अमूल बटर नहीं मिल रहा है। इंडस्ट्री के एक सूत्र ने कहा कि गायों में बीमारी इसकी वजह हो सकती है। लंपी बीमारी से कई राज्यों में गायों की मौत हुई है। अमूल बटर की कमी से निपटने के लिए रेस्टोरेंट्स वैकल्पिक उपाय कर रहे हैं।

Back to top button