x
लाइफस्टाइल

सर्दियों में विटामिन डी की कमी से इम्युनिटी-हड्डियों की सेहत पर हो सकता है असर,जानें बचाव के उपाय


सरकारी योजना के लिए जुड़े Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

नई दिल्लीः विटामिन-डी हमारी हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। शरीर में इसकी कमी की वजह से, कैल्शियम का अब्जॉर्प्शन बेहतर तरीके से नहीं हो पाता और हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। सर्दियों में विटामिन-डी की कमी होने का खतरा और अधिक बढ़ जाता है, जो हमारी सेहत के लिए परेशानियां बढ़ा सकता है। आइए जानते हैं, किन तरीकों से शरीर में विटामिन-डी की मात्रा को पूरा कर सकते हैं.

विटामिन-डी हड्डियों के साथ, इम्यून सिस्टम के लिए भी काफी महत्वपूर्ण

विटामिन-डी हमारी हड्डियों के साथ-साथ, इम्यून सिस्टम के लिए भी काफी महत्वपूर्ण होता है। बच्चों में विटामिन-डी कमी की वजह से रिकेट्स होने का जोखिम रहता है, जो उनके विकास और पूरे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। आर्थराइटिस के मरीजों के लिए भी यह काफी खतरनाक हो सकता है क्योंकि इसकी कमी की वजह से हड्डियां और अधिक कमजोर हो जाती हैं और जोड़ों का दर्द बढ़ सकता है।

क्यों जरूरी है शरीर के लिए विटामिन-डी

विटामिन-डी हमारे शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों में से एक है। हमारे शरीर को अपने कामकाज को सुचारू रूप से करने के लिए पर्याप्त मात्रा में विटामिन-डी की आवश्यकता होती है। इतना ही नहीं हमारे शरीर की रोग प्रतिऱोधक क्षमता को मजबूत बनाने में भी विटामिन-डी की अहम भूमिका होती है।यह हमें मौसमी संक्रमणों जैसे सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं से बचाने में मदद करता है। चूंकि हम कोविड-19 महामारी के युग में जी रहे हैं, तो ऐसे में अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखना हमारे लिए बहुत जरूरी है।

क्या हो सकते हैं विटामिन-डी कमी के प्रभाव

शरीर में विटामिन-डी की कमी होने पर व्यक्ति के किसी भी संक्रमण से ग्रसित होने की अधिक संभावना होती है। क्योंकि इसकी कमी के कारण हमारी इम्युनिटी कमजोर होने लगती है। जिससे की हम बदलते मौसम में बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाते हैं।इसकी कमी से आपको थकान की समस्या हो सकती है। आप एक अच्छी नींद लेने के बावजूद सारा दिन थकान महसूस कर सकती हैं। हमारी हड्डियों व जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है। विटामिन-डी की कमी होने पर आपको पीठ दर्द व घुटनों व जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है। कई बार इसका प्रभाव अधिक दर्दनाक हो सकता है। जिससे कि आपको अपने रोजमर्रा के कामकाज को करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। हम में से ज्यादातर लोग यह नहीं जानते कि हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी विटामिन-डी बहुत जरूरी होता है। इसकी कमी के चलते आपको कई बार अवसाद और चिंता जैसी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

विटामिन-डी की कमी को पूरा करने के लिए क्या करें

सूरज की रोशनी में कुछ समय बिताएं

रोज थोड़ी देर सूरज की रोशनी में समय बिताने से विटामिन-डी की कमी को दूर किया जा सकता है। जब सूरज की सीधी रोशनी आपकी स्किन पर पड़ती है, तब विटामिन-डी बनता है। इसलिए थोड़ी देर कर लगातार धूप में बैठें। धूप में कितनी देर बैठना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है, यह कई फैक्टर्स पर निर्भर करता है। त्वचा का रंग, मौसम, किस जगह रहते हैं, ये सभी बातें आपके विटामिन-डी की मात्रा को प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए आप अपने डॉक्टर से मिलकर, इस बारे में बात कर सकते हैं कि कितनी देर धूप में रहने से आपकी विटामिन-डी की कमी पूरी हो सकती है।

क्या हो सकते हैं विटामिन-डी कमी के प्रभाव

शरीर में विटामिन-डी की कमी होने पर व्यक्ति के किसी भी संक्रमण से ग्रसित होने की अधिक संभावना होती है। क्योंकि इसकी कमी के कारण हमारी इम्युनिटी कमजोर होने लगती है। जिससे की हम बदलते मौसम में बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाते हैं।

सी फूड खाएं

फूड आइटम्स में सी फूड में सबसे अधिक मात्रा में विटामिन-डी पाया जाता है। विटामिन-डी पाने के लिए ट्यूना फिश, सालमन और मैकरेल सबसे बेहतर स्त्रोत है। इन्हें अपनी डाइट में शामिल करने से सर्दियों में विटामिन-डी की कमी को दूर किया जा सकता है।

फॉर्टिफाइड फूड आइटम्स

फॉर्टिफाइड फूड उन फूड आइटम्स को कहा जाता है, जिनमें पोषक तत्वों को अलग से मिलाकर बेचा जाता है। कुछ फूड आइटम्स में विटामिन-डी मिलाया जाता है, जैसे दूध, दही, सीरल्स, जूस आदि। इन्हें खान-पान में शामिल करने विटामिन-डी की कमी को दूर किया जा सकता है।

मशरूम खाएं

मशरूम धूप में विटामिन-डी बनाते हैं। इसलिए ये विटामिन-डी का एक अच्छा स्त्रोत है। इसलिए इन्हें खाने से भी विटामिन-डी की कमी को दूर करने में मदद मिल सकती है।

विटामिन-डी रिच फूड्स का सेवन करें

विटामिन-डी का कमी को पूरा करने के लिए आप अपनी डाइट में विटामिन-डी से भरपूर फूड्स को शामिल कर सकती हैं। अंडे, दही, दूध, टोफू, मशरूम, ऑरेंज जूस, कोलार्ड, ओकरा, केल, पालक, सार्डिन मछली, सैल्मन, पनीर, चीज विटामिन-डी के कुछ बेहतरीन स्रोत हैं। इनको अपनी डाइट में शामिल कर के विटामिन-डी की समस्या से राहत पाने में काफी हद तक मदद मिल सकती है।

विटामिन-डी सप्लीमेंट्स ले सकते हैं

अगर आपको लगता है कि आपके शरीर में विटामिन-डी की मात्रा का स्तर अधिक कम हो गया है, तो आप अपने चिकित्सक से इसके लिए जांच की मांग कर सकती हैं। वे आपके वर्तमान स्तरों का आकलन करने के बाद आपको विटामिन-डी के सप्लीमेंट्स की सलाह दे सकते हैं। वैसे तो बाजार में कई तरह के विटामिन-डी सप्लीमेंट मौजूद हैं, लेकिन वे कई बार आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। इसलिए बेहतर है कि आप अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इनका सेवन करें।

विटामिन-डी की हो सकती है कमी

साल 2015 में प्रकाशित कनाडा की एक रिपोर्ट के अनुसार, सर्दियों में लगभग 40 प्रतिशत कनाडाई लोगों में विटामिन-डी की कमी के कारण होने वाली समस्याओं का जोखिम काफी बढ़ जाता है। वास्तव में 20-30 मिनट की धूप भी इस विटामिन की दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी है। पर सर्दियों में धूप की कमी के कारण विटामिन-डी की पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाती है। ऐसी स्थिति में हमें भोजन के माध्यम से इसे प्राप्त करने के तरीकों पर जोर देना चाहिए।इस मौसम में कई ऐसी चीजें आसानी से उपलब्ध होती है जो विटामिन-डी की दैनिक आवश्यकताओं की आसानी से पूर्ति करने में मददगार हैं।

अंडों से पा सकते हैं विटामिन-डी

विटामिन-डी के लिए अंडे अच्छा स्रोत होने के साथ-साथ पौष्टिक आहार भी हैं। एक अंडे में अधिकांश प्रोटीन सफेद भाग में पाया जाता है और वसा, विटामिन और खनिज की मात्रा जर्दी में होती है। एक बड़े अंडे की जर्दी में 37 IU विटामिन D होता है जो इसकी दैनिक जरूरतों के 5 फीसदी की पूर्ति कर सकता है।विटामिन-डी के साथ अंडे, प्रोटीन का भी अच्छा स्रोत हैं जिससे न सिर्फ ऊर्जा मिलती है साथ ही इसमें मजूद अन्य विटामिन्स शरीर को स्वस्थ रखने में भी मददगार हैं।

मशरूम का करें सेवन

शाकाहारी लोगों के लिए मशरूम, विटामिन-डी का अच्छा स्रोत माने जाते हैं। मशरूम विटामिन डी2 का उत्पादन करते हैं। मशरूम में इम्यून मॉड्यूलेटिंग पोषक तत्व होते हैं, ये न्यूरोडीजेनेरेटिव स्थितियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में सहायक होने के साथ आंतों के लिए भी मशरूम को फायदेमंद माना जाता है। सर्दियों में मशरूम का सेवन आपमें विटामिन-डी के स्तर को बेहतर बनाए रखने में मददगार है।

डेयरी उत्पाद हैं बेहतर विकल्प

शरीर के लिए विटामिन-डी की पर्याप्त मात्रा प्राप्त करने के लिए सभी प्रकार के डेयरी उत्पादों का सेवन किया जा सकता हैं। दूध, दही, मक्खन को विटामिन-डी का समृद्ध स्रोत माना जाता है। डेयरी उत्पादों से कैल्शियम की आसानी से प्राप्ति हो जाती है जो हड्डियों को स्वस्थ रखने में आपके लिए लाभकारी है। सभी उम्र के लोगों को आहार में डेयरी उत्पादों की मात्रा को जरूर शामिल करने चाहिए।

Back to top button