x
टेक्नोलॉजी

Instagram में मिले जरुरी सिक्योरिटी फीचर्स,यूजर्स के लिए सैफ


सरकारी योजना के लिए जुड़े Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

नई दिल्ली – मेटा (Meta) की इंस्टाग्राम भी इसे लेकर काफी गंभीर है। बीते कुछ दिनों में इंस्टाग्राम में कई नए फीचर्स की एंट्री हुई है, जो इसे यूजर्स के लिए एक बेहद सेफ प्लैटफॉर्म बनाते हैं। इंस्टाग्राम ने अपनी पॉलिसी में क्या बदलाव किए हैं, इस बारे में हमनें इंस्टाग्राम और फेसबुक इंडिया की पॉलिसी मैनेजर नताशा जॉग से बात की। आइए जानते हैं कि वे सोशल मीडिया पर यूजर सेफ्टी के बारे में क्या सोचती हैं।

इंस्टाग्राम में हिडेन वर्ड्स, लिमिट्स, मल्टी ब्लॉक, सेफ स्त्री ऑन इंस्टाग्राम, माई कानून नाम के नए सेफ्टी फीचर्स को इंट्रोड्यूस किया गया है। हिडेन वर्ड्स से यूजर आसानी के अनुचित डायरेक्ट मेसेज रिक्वेस्ट को फिल्टर कर सकते हैं। लिमिट्स फीचर के जरिए यूजर उन अकाउंट्स के कॉमेंट्स और डायरेक्ट मेसेज को छुपा सकते हैं, जिन्हें वे फॉलो नहीं करते। यूजर्स सेफ्टी के लिए इंस्टाग्राम के मल्टीब्लॉक फीचर के बारे में नताशा ने बताया कि इसकी मदद से आप अनचाहे यूजर्स को ब्लॉक तो कर सकते हैं, साथ ही यह फीचर यूजर को ब्लॉक किए गए यूजर द्वारा भविष्य में बनाए जाने वाले सारे अकाउंट्स को पहले से ही ब्लॉक करने की सहूलियत देता है।

इंस्टाग्राम पर कौन सा वीडियो फेक है, इसकी पहचान करने के बारे में नताशा ने बेहद अहम जानकारी दी। नताशा ने कहा कि इंस्टाग्राम को एक सेफ प्लैटफॉर्म बनाए रखने के लिए कंपनी काफी गंभीर है। इसके लिए कंपनी ने अपनी अलग सोशल पॉलिसी बनाई है। इनमें फेसबुक और इंस्टाग्राम के Do’s और Dont’s के बारे में बताया गया है। नताशा ने कहा कि इन पॉलिसी को लोगों से मिले फीडबैक और टेक्नॉलजी, पब्लिक सिक्योरिटी और ह्यूमन राइट्स के क्षेत्र से जुड़े जानकारों से मिले फीडबैक पर आधारित हैं। इंस्टाग्राम पर गलत जानकारी के बारे में नताशा जॉग ने कहा कि इस प्लैटफॉर्म पर इमेज डिटेक्शन टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया जाता है। इसके जरिए उन कॉन्टेंट को खोजा जा सकता है, जिन पर फेसबुक (Facebook) के थर्ड पार्टी फैक्ट चेकिंग प्रोग्राम ने बैन लगा रखा है।

कंपनी 18 साल से कम के लोगों को प्राइवेट अकाउंट बनाने की सुविधा नहीं देती। इसके अलावा, कंपनी ने 7 भारतीय भाषाओं में पैरेंट्स गाइड्स को लॉन्च किया है। नताशा ने बताया कि इंस्टाग्राम आजकल पैरेंटल सुपरविजन टूल्स पर भी काम कर रहा है। ये टूल्स माता-पिता को बच्चों के अकाउंट्स पर नजर रखने की सहूलियत देते हैं। रील्स के बारे में नताशा ने कहा कि इसके लिए भी सेफ्टी पॉलिसी पूरी तरह से लागू हैं, ताकि यूजर्स को बेहतर माहौल में रील्स के जरिए अपनी क्रिएटिविटी दिखाने का मौका मिले।

Back to top button