x
भारत

बेंगलुरु के रामेश्वरम कैफे में IED से हुआ धमाका, पुलिस ने चार को हिरासत में लिया


सरकारी योजना के लिए जुड़े Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

नई दिल्लीः बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने बेंगलुरु में रामेश्वरम कैफे ब्लास्ट मामले में चौंकाने वाला बयान दिया है। सीटी रवि ने कहा कि यह ब्लास्ट विध्वंसक ताकतों का किया गया रिहर्सल था। उन्होंने दावा किया कि आने वाले समय में ऐसे और ब्लास्ट हो सकते हैं। रवि ने चिक्कमगलुरु में पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ‘मुझे लगता है कि रामेश्वरम कैफे में कम तीव्रता वाला विस्फोट एक रिहर्सल था, एक परीक्षण जो आने वाले दिनों में सिलसिलेवार विस्फोटों की ओर संकेत करता है। यह एक प्रायोगिक विस्फोट था।’ उन्होंने कहा, ‘पहले, तमिलनाडु के कोयंबटूर से सिलसिलेवार बम विस्फोटों की सूचना मिली थी। अब ऐसी ही एक कोशिश की गई है। धार्मिक कट्टरपंथियों और आतंकवादियों ने विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए हाथ मिला लिया है। मैं कर्नाटक सरकार से कैफे विस्फोट की जांच पूरी तरह से एनआईए को सौंपने का आग्रह करता हूं।’

बेंगलुरू के रामेश्वरम कैफे में ब्लास्ट

सीटी रवि ने कहा कि कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद एनआईए ने कर्नाटक में 21 संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया कि 19 जुलाई 2023 को बेंगलुरु में बम विस्फोट करने की साजिश रचने के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था और 18 दिसंबर 2023 को एक आईईडी विस्फोट के सिलसिले में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जबकि इस साल 13 जनवरी को अधिकारियों ने आठ संदिग्ध आत्मघाती हमलावरों को गिरफ्तार किया था।

यह है मामला

बंगलूरू पुलिस ने कैफे में विस्फोट के संबंध में कड़े गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। यह धमाका शुक्रवार दोपहर एक बजे हुआ था। पुलिस को सीसीटीवी फुटेज में एक संदिग्ध शख्स दिखाई दिया है, जो कैफे के अंदर एक बैग रखता दिख रहा है। पुलिस का मानना है कि विस्फोट को अंजाम देने के लिए टाइमर के साथ एक आईईडी डिवाइस का इस्तेमाल किया गया था।बंगलूरू के रामेश्वरम कैफे धमाका मामले में 10 घायलों का इलाज जारी है। सभी घायल खतरे से बाहर हैं। जानमाल का बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। कर्नाटक पुलिस का बम निरोधक दस्ता और फॉरेंसिक टीम जांच में जुटी है। प्रदेश की कांग्रेस सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए भाजपा एनआईए जांच की मांग कर रही है।

‘आतंकियों का टारगेट दक्षिण भारत’

रवि ने कहा कि हम दिल्ली, अहमदाबाद, पंजाब और जम्मू-कश्मीर में बम विस्फोटों के बारे में सुनते थे। अब, उत्तर में बम विस्फोट लगभग समाप्त हो गए हैं और दक्षिण भारत, विशेषकर केरल, तेलंगाना और कर्नाटक में ये चीजें हो रही है। यह एक गंभीर मामला है। हमारी कर्नाटक सरकार ‘ब्रांड बेंगलुरु’ बनाने की कोशिश कर रही है लेकिन अब इस ‘ब्रांड बेंगलुरु’ को बम के खतरे का सामना करना पड़ रहा है।

‘कर्नाटक बना स्लीपर सेल हब’

बीजेपी नेता ने कहा कि आतंकवादियों ने कर्नाटक को स्लीपर सेल (हब) बना दिया है। इन तत्वों ने कर्नाटक को (लंबे समय से) प्रशिक्षण केंद्र के रूप में उपयोग किया है। चिक्कमगलुरु जिले के कोप्पा क्षेत्र में वे बम और बंदूकें बनाने का प्रशिक्षण ले रहे थे। तीर्थहल्ली में विध्वंसक तत्व प्रेशर कुकर में विस्फोट करने का प्रशिक्षण ले रहे थे। प्रशिक्षण कर्नाटक के कोडागु क्षेत्र में भी दिया गया, जिसकी सीमा केरल से लगती है। सरकार के पास कर्नाटक को आतंकवादियों के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में इस्तेमाल किए जाने की जानकारी है।

पाकिस्तान जिंदाबाद नारे का जिक्र

सीटी रवि ने आगे कहा कि कोरोना महामारी के दौरान पडारायणपुरा इलाके में धार्मिक कट्टरवाद सामने आया। वहां कोरोना योद्धाओं पर हमला किया गया और डीजे हल्ली और केजी हल्ली हिंसा मामले में भी यही कट्टरता देखी गई।एक दलित विधायक का घर जला दिया गया और निजी वाहनों को आग लगाने के अलावा उन्होंने एक थाना भी जला दिया। उत्तरी कर्नाटक के हुबली-धारवाड़ क्षेत्र में भी अत्यधिक धार्मिक कट्टरवाद देखा गया। कट्टरता के कारण, बेंगलुरु विधानसभा और राज्य के अन्य हिस्सों में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाए गए। उन्होंने दावा किया कि बेंगलुरु कैफे विस्फोट का अंतर्राष्ट्रीय लिंक होने की आशंका है और जांच पूरी तरह से एनआईए को सौंपी जानी चाहिए।

तेजस्वी सूर्या बोले- बम विस्फोट का मामला, CM जवाब दें

भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा कि रामेश्वरम कैफे के फाउंडर नागराज से उनके कैफे में हुए विस्फोट के बारे में बात हुई। उन्होंने मुझे बताया कि विस्फोट एक ग्राहक द्वारा छोड़े गए बैग के कारण हुआ है। सूर्या ने कहा कि यह स्पष्ट रूप से बम विस्फोट का मामला दिख रहा है। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया मामले में जवाब दें।

CM की विपक्ष से अपील- राजनीति न करें

मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि हमारी जांच में सामने आया है कि किसी शख्स ने 12:00 बजे के आसपास एक बैग रखा था। इसमें 8 लोग घायल हुए हैं। हम लोग CCTV फुटेज की जांच कर रहे हैं। हमें पता चला है कि किसी ने वहां पर जानबूझकर बैग रखा था। यह एक इंप्रोवाइज्ड ब्लास्ट है। यह नहीं होना चाहिए था और हम सुनिश्चित करेंगे कि आगे ऐसा ना हो।साथ ही CM ने कहा कि इस पूरे मामले को लेकर कोई भी राजनीति नहीं होनी चाहिए। हम विपक्ष से यह डिमांड करते हैं कि वह हमें इस मुद्दे पर सहयोग करे। यह एक लो इंटेंसिटी का ब्लास्ट था।

सिद्धारमैया पर निशाना

रवि ने कहा कि कर्नाटक सीएम सिद्धारमैया ने कहा है कि कोई राजनीति नहीं की जानी चाहिए। यह हमारे लोगों की सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है। मैं सीएम से अपील करता हूं कि वह अपने मंत्रियों और विधायकों को आतंकवादियों से सहानुभूति न रखने की सलाह दें। डीजे हल्ली और केजी हल्ली हिंसा मामले के आरोपियों को कैबिनेट मंत्रियों द्वारा निर्दोष के रूप में पेश किया गया था। उन्होंने उनकी रिहाई की मांग को लेकर पत्र भी लिखा था। उन्होंने मंगलुरु कुकर ब्लास्ट की घटना को भाजपा का खेल करार दिया। डिप्टी सीएम डी.के. शिवकुमार ने आरोपियों को अपना ‘भाई’ बताया। यह सहानुभूतिपूर्ण रवैया अब बंद होना चाहिए।

भाजपा सांसद ने विस्फोट को रहस्यमयी बताया

बेंगलुरु सेंट्रल से भाजपा सांसद पीसी मोहन ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा कि रामेश्वरम कैफे में रहस्यमयी विस्फोट के बारे में सुनकर चिंतित हूं। मेरी संवेदनाएं प्रभावित लोगों और उनके परिवारों के साथ हैं।

बेंगलुरु में काफी फेमस है रामेश्वरम कैफे

रामेश्वरम कैफे बेंगलुरु में अपने डोसा के लिए काफी फेमस है। इसकी शहर में कई ब्रांच हैं। कैफे की स्थापना साल 2022 में हुई थी। यहां सुबह 6.30 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक काफी भीड़ रहती है।

कौन हैं रामेश्वरम कैफे के मालिक?

राघवेंद्र राव एक मैकेनिकल इंजीनियर हैं, जिन्हें खाद्य उद्योग में 20 से अधिक वर्षों का अनुभव है। वह आईडीसी किचन के संस्थापक और प्रमोटर हैं। वह रामेश्वरम कैफे श्रृंखला में संचालन का नेतृत्व करते हैं।वहीं, दिव्या राघवेंद्र राव चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं। उन्होंने आईआईएम अहमदाबाद से वित्त और प्रबंधन में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। वह रामेश्वरम कैफे के प्रबंधन और वित्त विभाग की प्रमुख हैं। इतना ही नहीं दिव्या को 12 से अधिक का कार्य अनुभव है। वह आईसीएआई की दक्षिण भारतीय क्षेत्रीय परिषद की बंगलूरू शाखा की प्रबंध समिति की सदस्य भी हैं।

Back to top button