x
मनोरंजन

सालो तक एक दूसरे से बात नहीं करती थी काजोल और रानी मुखर्जी,फिर बन गई दोस्त


सरकारी योजना के लिए जुड़े Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

मुंबई – काजोल और रानी मुखर्जी का नाम 90 के दशक की टॉप एक्ट्रेसेस में शुमार किया जाता है. दोनों ने शाहरुख खान के साथ फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ में काम किया था. इसके अलावा काजोल स्टारर ‘कभी खुशी कभी गम’ में भी रानी मुखर्जी का स्पेशल अपीयरेंस था. बहुत कम लोग जानते हैं कि काजोल और रानी मुखर्जी न सिर्फ को-स्टार्स हैं ब्लकि चचेरी बहनें भी हैं. दरअसल रानी मुखर्जी और काजोल के दादा आपस में सगे भाई थे.

क्यों एक दूसरे से बात नहीं करती है रानी-काजोल

करण जौहर ने रानी मुखर्जी और काजोल से प्रोफेशनल के साथ- साथ पर्सनल लाइफ को लेकर भी बात की। होस्ट ने हैरानी जताई कि एक ही परिवार का हिस्सा होते हुए भी कैसे दोनों एक-दूसरे से बात तक नहीं करती थीं। हालांकि, काजोल ने इसे ऑर्गेनिक डिस्टेंस बताया। “ये किस तरह का परिवार था, जहां दोनों एक-दूसरे बात तक नहीं करती थीं।” जवाब देते हुए काजोल ने कहा, “ऐसा कुछ नहीं है। ये बस ऑर्गेनिक दूरी थी। जहां काम ज्यादा मायने रखता था, हम जिस जगह थे वो हमें वो पसंद थी।”

काजोल से ज्यादा ऐश्वर्या से बात करती थीं रानी

कॉफी विद करण के हालिया एपिसोड में रानी मुखर्जी और काजोल दोनों एक साथ पहुंची. जहां उन्होंने करण के सवालों का खुलकर जवाब दिया. इस दौरान रानी मुखर्जी ने खुलासा किया कि वह अपने करियर के शुरुआती दिनों में अपनी चचेरी बहन काजोल की तुलना में ऐश्वर्या राय से अधिक बात करती थीं. उन्होंने इसे ऑगेनिक दूरी का नाम दिया और बताया कि ये दूरियां हाल ही में भरी हैं. करण जौहर ने कहा ये सरप्राइजिंग हैं ‘यह किस तरह का परिवार है’ कि वे एक-दूसरे से बात तक नहीं करते हैं. इसके जवाब में काजोल ने कहा, ‘वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है. यह महज एक ऑगेनिक दूरी थी, जहां तक काम का सवाल है, यह अधिक महत्वपूर्ण है कि हम दोनों को वह स्थान पसंद आया, जहां हम थे.

काजोल के पिता के निधन के बाद दोस्त बने दोनों

अब सवाल यह है कि इस दूरी के बीच दोनों बहनों की दोस्ती कैसी हुई? तो इसपर काजोल ने बताया कि उनके पिता के निधन के बाद ही वे और रानी करीब आए. रानी कहती हैं, ‘एक फैमिली में जब आप अपने करीबियों को खो देते हैं. जब आप मुश्किल वक्त और नुकसान से गुजरते हैं, तभी हर कोई करीब आता है. मैं काजोल के पिता (शोमू मुखर्जी) के करीब थी.’

Back to top button