Big news App
बिजनेसविश्व

कितने भारतीयों के अकाउंट स्विस बैंक हे इसी महीने सरकार को मिलेगी तीसरी लिस्ट

स्विट्जरलैंड : स्विट्जरलैंड का स्विस बैंक (Swiss Bank) इसी महीने भारतीय खातादारों की जानकारी का तीसरा सेट भारत सरकार को देगा, न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ऑटोमैटि एक्सचेंज ऑफ इन्फोर्मेशन (AEOI) के तहत ये जानकारी दी जाएगी, इस सेट में पहली बार भारतीयों के मालिकाना हक वाली अचल संपत्ति का ब्यौरा भी होगा। इस सेट में कई अहम जानकारियां मिलेंगी, जैसे स्विट्जरलैंड में भारतीयों के कितने फ्लैट और अपार्टमेंट हैं. साथ ही ऐसी संपत्तियों पर कितना टैक्स बकाया है। ऐसी जानकारियां भी सामने आ जाएंगी।

ऑटोमैटिक एक्सचेंज ऑफ इन्फोर्मेशन (AEOI) के तहत स्विस बैंक से भारत को सितंबर 2019 में पहला और सितंबर 2020 में दूसरा सेट मिला था, स्विट्जरलैंड सरकार ने इसी साल विदेशियों के इन्वेस्टमेंट की जानकारी भी साझा करने का फैसला लिया था. हालांकि, डिजिटल करेंसी की डिटेल साझा करने को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया हे।

इस डेटा से सरकार को उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने में मदद मिलती है, जिनके पास बेहिसाब संपत्ति है क्योंकि इसमें डिपॉजिट और ट्रांसफर के अलावा इन्वेस्ट और दूसरी संपत्तियों से हुई कमाई का ब्योरा भी होता है। हालांकि, नाम न छापने की शर्त पर कई अधिकारियों ने बताया कि इसमें ज्यादातर कारोबारियों से जुड़ी जानकारी होती है, जिसमें एनआरआई भी शामिल हैं, जो अब अमेरिका, ब्रिटेन समेत विदेशों में बस गए हैं, ऐसी भी आशंका जताई जाती है कि कालेधन के खिलाफ कार्रवाई के चलते कई सारे भारतीयों ने स्विस बैंक में अपने अकाउंट को बंद कर लिया हो।

पिछले दो साल में हर बार स्विट्जरलैंड करीब 30 लाख खाताधारकों की डिटेल साझा कर चुका है. हालांकि, इस बार इस संख्या में बढ़ोतरी होने की संभावना है, एक अधिकारी ने बताया कि इस बार एनआरआई के साथ-साथ भारतीय कंपनियों का डेटा भी साझा किया जाएगा।

भारत को तीसरी बार भारतीय खातादारों की जानकारी दी जाएगी, इसे कालेधन के खिलाफ लड़ाई में अहम कदम माना जा रहा है, ये पहली बार होगा जब स्विस बैंक भारतीयों की अचल संपत्ति का डेटा भी भारत को देगा।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button