विश्व

अमेरिका के सामने रूसी परमाणु पनडुब्‍बी,कैरेबियाई इलाकों में उतारे युद्धपोत और विमान

नई दिल्ली – रूस और यूक्रेन के बीच लंबे समय से तनाव जारी है। एक तरफ, अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई पश्चिमी देशों ने यूक्रेन का समर्थन किया है और उसे हथियार मुहैया कराने में मदद की है। दूसरी तरफ, रूस ने भी इसे लेकर जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी है। दरअसल रूस ने कैरेबियाई इलाकों में सैन्य अभ्यास के लिए अपने युद्धपोत और विमान उतारे हैं।

रूसी परमाणु पनडुब्बी कजान गाइडेड

रूसी टेलीग्राम चैनलों ने दावा किया है कि रूसी परमाणु पनडुब्बी कजान गाइडेड मिसाइल से लैस है। बेड़े की अगुवाई कर रहे एडमिरल गोर्शकोव को रूस के सबसे आधनिक युद्धपोत में गिना जाता है। रूसी रक्षा मंत्रालय के अनुसार, गोर्शकोव कैलिबर मिसाइल के साथ ही नवीनतन हाइपरसोनिक मिसाइल जिरकान से भी लैस है। कजान और गोर्शकोव के अलावा रूसी बेड़े में फ्लीट ऑयल टैंकर पाशिन और टग निकोले चिकर भी शामिल है।

क्यूबा पहुंची रूसी पनडुब्बी

रूस की परमाणु पनडुब्बी कजान अमेरिका के दरवाजे पर मौजूद क्यूबा में पहुंची है।रूस के युद्धक जहाज फ्रिगेट एडमिरल गोर्शकोव के नेतृत्व में रूसी युद्धक जहाजों का बेड़ा युद्धाभ्यास के लिए क्यूबा के बंदरगाह पर पहुंचा है, जो यहां 5 दिनों तक रहेगा। इसमें रूस की परमाणु पनडुब्बी कजान भी शामिल है। रूसी परमाणु पनडुब्बी कजान गाइडेड मिसाइल से लैस है। बेड़े की अगुवाई कर रहे एडमिरल गोर्शकोव को रूस के सबसे आधनिक युद्धपोत में गिना जाता है। रूसी रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, गोर्शकोव कैलिबर मिसाइल के साथ ही हाइपरसोनिक मिसाइल जिरकान से भी लैस है।

परमाणु हथियारों की मौजूदगी से इनकार

हालांकि, क्यूबा के अधिकारियों ने ये साफ किय है परमाणु पनडुब्बी कजान समेत बेड़े के जहाज पर परमाणु हथियार नहीं हैं। क्यूबा के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि ‘किसी भी जहाज पर परमाणु हथियार नहीं है, इसलिए इनके देश में रुकने से क्षेत्र को कोई खतरा नहीं है।’ इन दावों के बावजूद रूसी जहाजों का अमेरिकी जलक्षेत्र से महज कुछ किमी की दूरी से गुजरना महत्वपूर्ण है। खासतौर पर जब पुतिन ने धमकी दी है कि वे अपने शक्तिशाली हथियारों को उन देशों और क्षेत्रों में तैनात करेंगे जहां से पश्चिमी देशों को निशाना बनाया जा सके।

Back to top button