Close
भारतविश्व

BRICS Summit 2023: जोहान्सबर्ग में आज से तीन दिवसीय ब्रिक्स समिट,पीएम मोदी की चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से होगी मुलाकात ?

नई दिल्लीःप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए आज सुबह दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर रवाना हुए। प्रधानमंत्री मोदी का ये चार दिवसीय विदेश दौरा है। प्रधानमंत्री का दक्षिण अफ्रीका के बाद ग्रीस जाने का भी कार्यक्रम है।दक्षिण अफ्रीका के जोहान्‍सबर्ग में आज से ब्रिक्‍स सम्‍मेलन का आगाज हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने के लिए रवाना हो चुके हैं। सबकी नजरें पीएम मोदी और चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग की मुलाकात पर टिकी हुई हैं।

साल 2019 के बाद पहला मौका है जब इस तरह से इसका आयोजन हो रहा है। कोविड-19 महामारी के चलते इस सम्‍मेलन को वर्चुअली आयोजित किया जा रहा था। सम्‍मेलन में इस बार संगठन के विस्‍तार से लेकर ब्रिक्‍स देशों की एक समान मुद्रा समेत कई मुद्दे अहम हैं लेकिन सबसे ज्‍यादा सुगबुगाहट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग की संभावित मीटिंग को लेकर है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार (22 अगस्त) सुबह 4 दिनों की विदेश यात्रा के लिए रवाना हो गए. पीएम मोदी मंगलवार शाम को दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग पहुंचेंगे, जहां वे ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. ब्रिक्स देशों की बैठक के दौरान उनकी कई देशों के प्रमुखों से द्विपक्षीय बातचीत हो सकती है.

दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग शहर में 15वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। यह समिट आज यानी 22 से 24 अगस्त तक जोहान्सबर्ग में आयोजित हो रहा है। वर्ष 2019 के बाद यह पहली बार हो रहा है जब ब्रिक्स देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के बड़े नेता एक मंच पर आमने-सामने होंगे।आपको बता दें कि कोविड 19 महामारी के बाद यह पहला ब्रिक्स शिखर सम्मेलन है जो इन-पर्सन आयोजित हो रहा है। इससे पहले कोरोना महामारी के कारण लगातार तीन साल तक ब्रिक्स समिट का आयोजन वर्चुअल मोड में किया गया था। इस साल ब्रिक्स सिखर सम्मेलन का आयोजन दक्षिण अफ्रीका की अध्यक्षता हो रहा है। इस साल के ब्रिक्स समिट का थीम: ‘ब्रिक्स और अफ्रीका: पारस्परिक तेज विकास, सतत विकास और समावेशी बहुपक्षवाद के लिए साझेदारी’ है।

भारतीय विदेश सचिव क्वात्रा ने प्रधानमंत्री मोदी के अफ्रीका दौरे पर कहा कि जोहान्सबर्ग ब्रिक्स समिट के दौरान वहां मौजूद रहने वाले नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकों का कार्यक्रम तय किया जा रहा है। संभावना है कि इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की द्विपक्षीय बैठक भी हो सकती है।

गौरतलब है कि ब्रिक्स में दुनिया के पांच सबसे बड़े विकासशील देशों का एक ग्रुप है। ये पांचों देश दुनिया की 41 प्रतिशत आबादी, वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 24 फीसदी और वैश्विक व्यापार का 16 प्रतिशत का हिस्से का प्रतिनिधित्व करता हैं।
आपको बता दें कि ब्रिक्स (BRICS) का हर एक अक्षर एक देश को दर्शाता है। ब्रिक्स में B से ब्राजील, R से रूस, I से इंडिया, C से चीन और S से साउथ अफ्रीका है। चीन के शंघाई शहर में ब्रिक्स का हेडक्वार्टर का है। ब्रिक्स देशों का हर साल शिखर सम्मेलन आयोजित होता है, जिसमें पांचों देश के राष्ट्र प्रमुख हिस्सा लेते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जोहान्सबर्ग में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शामिल होने के बाद ग्रीस जाने का भी कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी ग्रीस के पीएम किरियाकोस मित्सोटाकिस के खास निमंत्रण पर 25 अगस्त को एथेंस जाएंगे। आपको बता दें कि 40 साल बाद भारत का कोई प्रधानमंत्री ग्रीस का दौरे पर जाएंगे।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय समयानुसार शाम 5.45 बजे जोहान्सबर्ग पहुंचेंगे. वे 15वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में ब्राजील, चीन, रूस और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं के साथ शामिल होंगे.2019 के बाद ये पहला ब्रिक्स सम्मेलन होगा, जिसमें सदस्य देशों के प्रमुख आमने-सामने की बैठक में हिस्सा ले रहे हैं. पिछले तीन वर्षों में ब्रिक्स की बैठकें वर्चुअली आयोजित की गई थीं.प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी बयान में पीएम मोदी ने कहा कि ब्रिक्स शिखर सम्मेलन अपने सदस्यों को सहयोग के भविष्य के क्षेत्रों की पहचान करने और संस्थागत विकास की समीक्षा करने का एक उपयोगी अवसर प्रदान करेगा.

दक्षिण अफ्रीका दौरे पर रवाना होने से पहले दिए बयान में उन्होंने कहा, ब्रिक्स विभिन्न क्षेत्रों में एक मजबूत सहयोग एजेंडा अपना रहा है. हम मानते हैं कि ब्रिक्स विकास अनिवार्यताओं और बहुपक्षीय प्रणाली में सुधार सहित पूरे ग्लोबल साउथ के लिए चिंता के मुद्दों पर चर्चा और विचार-विमर्श करने का एक मंच बन गया है.सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर पीएम मोदी ने लिखा, जोहान्सबर्ग में आयोजित ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए दक्षिण अफ्रीका रवाना हो रहा हूं. मैं ब्रिक्स-अफ्रीका आउटरीच और ब्रिक्स प्लस डायलॉग कार्यक्रमों में भी हिस्सा लूंगा. शिखर सम्मेलन ग्लोबल साउथ और विकास के अन्य क्षेत्रों के लिए चिंता के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मंच प्रदान करेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दौरान कुछ नेताओं से मुलाकात करने वाले हैं. बयान में उन्होंने कहा, “मैं जोहान्सबर्ग में मौजूद कुछ नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकें करने के लिए भी उत्सुक हूं.” जोहान्सबर्ग में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम मोदी का आमना-सामना हो सकता है, हालांकि, विदेश मंत्रालय की तरफ से जिनपिंग के साथ बैठक को लेकर कुछ भी साफ नहीं कहा गया है.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा के निमंत्रण पर 22-24 अगस्त तक जोहान्सबर्ग में ब्रिक्स सम्मेलन मे मोदी एक दिन की यात्रा पर ग्रीस जाएंगे. बयान में पीएम मोदी ने कहा, मैं ग्रीस की अपनी यात्रा से हमारे बहुआयामी संबंधों में एक नया अध्याय खुलने की आशा करता हूं.

पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच बैठक की संभावना के बारे में पूछे जाने पर, विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने सोमवार को कहा कि उनका कार्यक्रम “अभी तैयार किया जा रहा है.” ब्रिक्स के विस्तार पर उन्होंने कहा कि हमारा इरादा सकारात्मक है और दिमाग खुला है. अगर पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच द्विपक्षीय मुलाकात होती है, तो मई 2020 में भारत-चीन सीमा गतिरोध शुरू होने के बाद यह उनकी पहली मुलाकात होगी. दोनों नेताओं के बीच पिछले साल नवंबर में इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो द्वारा आयोजित जी20 रात्रिभोज के दौरान संक्षिप्त आमना-सामना हुआ था.

Back to top button