विश्व

अमेरिका में तबाही मचा रहा बम साइक्लोन क्या है

नई दिल्ली – अमेरिका में 22 और 23 दिसंबर के बीच पांच हजार से ज्यादा प्लाइट्स रद्द कर दी गई. मौसम विभाग ने इसकी भविष्यवाणी पहले ही कर दी थी. चक्रवात के कहर की वजह से करीब 10 लाख से ज्यादा घरों की बिजली गुल हो गई है और लोगों को अंधेरे में रहना पड़ रहा है.अमेरिका में भारी हिमपात, गरजती तेज हवाओं ने देश के दक्षिणी राज्यों सहित अधिकांश हिस्सों को अपनी चपेट में ले लिया है.

संयुक्त राज्य अमेरिका के कुछ हिस्सों में इसे सिल्वर मेल्टिंग के तौर पर भी जाना होता है.ये तूफान पानी की जगह बर्फ या ओलों की बारिश करता है. ये आमतौर पर तब होता है जब मौसम का तापमान पहले से ही काफी कम हो. जरूरी नहीं कि ऐसा तापमान केवल ठंड के मौसम में ही आए.अगर जमीन का तापमान कम हो तो भी कभी बर्फीला तूफान देखने को मिलता है लेकिन बहुत कम.

अभी एक पहले ही जापान में ऐसा ही बर्फीला तूफान आया, जिसे विंटर स्टॉर्म के नाम से भी समझा जाता है. इसमें बर्फ की बारिश काफी तेज़ी से होती है. हाड़ कंपा देने वाली हवाएं भी साथ में चलती हैं.

बर्फीले तूफान में जब तेज़ हवाएं भी चलती हैं और बहुत ज़्यादा बर्फ गिरती है, तो उसे ब्लिज़ार्ड या हिम झंझावात भी कहा जाता है. 1888 से 1947 के बीच और 1990 के दशक में अमेरिका में कई बार इस तरह के ब्लिज़ार्ड रिकॉर्ड किए गए थे. मिसाल के तौर पर 1947 में अमेरिका में दो फीट से ज़्यादा बर्फ गिरी थी. लगातार बर्फ गिरने से 12 फीट तक बर्फ जम गई थी, जो महीनों तक पिघली नहीं थी क्योंकि तापमान गिरा नहीं था.

बम चक्रवात क्या है?
एक बम चक्रवात, जिसे बॉम्बोजेनेसिस के रूप में भी जाना जाता है, एक तेजी से विकसित होने वाला तूफान है, जो तब होता है जब वायुमंडलीय 24 घंटे की अवधि में कम से कम 24 मिलीबार गिर जाता है. राष्ट्रीय महासागरीय और वायुमंडलीय प्रशासन ऑनलाइन इसे नोट करता है. जॉन मूर, राष्ट्रीय मौसम सेवा के लिए एक सार्वजनिक मामलों के विशेषज्ञ और मौसम विज्ञानी ने सीबीएस न्यूज को बताया,”एक बम चक्रवात तब होता है जब चक्रवात के केंद्र में वायुमंडलीय दबाव तेजी से गिरता है. लगभग योग्यता प्राप्त करने के लिए, दबाव को 24 घंटे की अवधि में हर घंटे लगभग 1 [मिलीबार] या उससे अधिक छोड़ने की आवश्यकता होती है.” एनओएए ने बताया,”यह तब हो सकता है जब ठंडी हवा का द्रव्यमान गर्म हवा के द्रव्यमान से टकराता है, जैसे गर्म समुद्र के पानी पर पर हवा.”

इन तमाम कारणों के साथ बर्फीले तूफान का संबंध झील से भी जुड़ा होता है, जिसे लेक इफेक्ट कहते हैं. एक पर्वतीय बर्फीला तूफान भी होता है. चूंकि चक्रवाती हवाएं नीचे की तरफ से ऊपर की तरफ बह रही होती हैं इसलिए पहाड़ी क्षेत्रों में कभी कभी बहुत भारी बर्फीले तूफान देखे जाते हैं.

Back to top button