Big news App
विज्ञान

सौर मंडल से परे ग्रहों को खोजने के लिए नई विधि का प्रस्ताव

नई दिल्ली – एक्सोप्लैनेट वे ब्रह्मांडीय पिंड या ग्रह हैं जो हमारे सौर मंडल के बाहर एक तारे की परिक्रमा करते हैं। नासा के अनुसार, अब तक 5,000 से अधिक एक्सोप्लैनेट का पता चलने की पुष्टि हो चुकी है। शोधकर्ता आमतौर पर एक्सोप्लैनेट को खोजने के लिए पारगमन विधि पर भरोसा करते हैं। यह इस उद्देश्य के लिए ऑप्टिकल टेलीस्कोप का उपयोग करता है और इसकी कुछ सीमाएँ हैं। अब, एक नई विधि विकसित की गई है जो रेडियो दूरबीन का उपयोग करके रेडियो तरंग दैर्ध्य पर एक्सोप्लैनेट का निरीक्षण करने में मदद कर सकती है। पारगमन विधि एक शक्तिशाली उपकरण है जहां समय के साथ किसी तारे की चमक देखी जाती है।

जब रेडियो तरंग दैर्ध्य का उपयोग करके एक्सोप्लैनेट का अवलोकन करने की बात आती है, तो यह काफी मुश्किल हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अधिकांश ग्रह अधिक रेडियो प्रकाश उत्सर्जित नहीं करते हैं। इस बीच, अधिकांश तारे रेडियो प्रकाश उत्सर्जित करते हैं जो सौर ज्वालाओं और अन्य कारकों के कारण काफी परिवर्तनशील हो सकते हैं। बृहस्पति जैसे बड़े गैस ग्रह को रेडियो चमकीला पाया गया है, जो इसके मजबूत चुंबकीय क्षेत्र के कारण है। इसकी चमक इस हद तक है कि इसे होममेड रेडियो टेलिस्कोप से पता लगाया जा सकता है।

खगोलविद अभी तक बृहस्पति जैसे ग्रह से स्पष्ट रेडियो सिग्नल का पता नहीं लगा पाए हैं। नए अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने यह जानने की कोशिश की है कि संकेत कैसा हो सकता है। उन्होंने मैग्नेटोहाइड्रोडायनामिक्स (एमएचडी) का एक मॉडल विकसित किया है और इसे एचडी 189733 नामक ग्रह प्रणाली पर लागू किया है। उन्होंने स्टार की तारकीय हवा और ग्रह के चुंबकीय क्षेत्र के बीच बातचीत का अनुकरण किया है और ग्रह के रेडियो सिग्नल के आसपास गणना की है।

ग्रह एक स्पष्ट प्रकाश वक्र उत्पन्न करेगा। यह प्रकाश रेडियो संकेत है जो ग्रह की गति के कारण बदलता रहता है। यह भी नोट किया गया कि यह विधि अपने तारे के सामने से गुजरने वाले किसी ग्रह के पारगमन का पता लगाने में मदद कर सकती है। इस मामले में रेडियो संकेतों में विशिष्ट विशेषताएं होंगी जो खगोलविदों को ग्रह के मैग्नेटोस्फीयर के आकार और ताकत को समझने में मदद करेंगी।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button