ट्रेंडिंगमनोरंजन

मिस्ट्री गर्ल का हाथ थामे घूमते दिखे अनिल कपूर के बेटे हर्षवर्धन

मुंबई – एक तरफ बॉलीवुड सुपरस्टार अनिल कपूर नाना बनने की तैयारी कर रहे हैं क्योंकि उनकी लाडली बेटी सोनम कपूर इन दिनों गर्भवती हैं तो वहीं दूसरी ओर उनके साहबजादे हर्षवर्धन कपूर एक मिस्ट्री गर्ल के साथ सड़कों पर घूमते हुए देखे गए हैं, जिसके बाद से वो सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा चर्चित हो गए हैं। दरअसल उनका एक वीडियो सोशल पर वायरल पर हो रहा है, जिसमें वो मुंबई की सड़कों पर एक लड़की का हाथ थामे हुए घूम रहे हैं।

सोशल मीडिया पर स्पॉटिंग के वीडियो और फोटोज पर कमेंट्स में फैंस उस मिस्ट्री गर्ल की पहचान के बारे में बात कर रहे हैं। वीडियो में हर्षवर्धन को फ्लोरल ब्लैक एंड व्हाइट शर्ट के साथ टाई-डाई व्हाइट शॉर्ट्स पहने देखा जा सकता है, जबकि उनकी मिस्ट्री फ्रेंड ने व्हाइट ट्राउजर, व्हाइट स्नीकर्स और ब्लैक शेड्स के साथ मल्टीकलर क्रॉप टॉप पहना था। एक बिल्डिंग में एंट्री करने से पहले चलते समय उन्हें एक-दूसरे का हाथ पकड़े देखा गया। वे दोनों सिगरेट भी पी रहे थे।

फैंस का मानना है कि वो मिस्ट्री गर्ल हर्षवर्धन की गर्लफ्रेंड हैं और उनकी पहचान के बारे में वे कई सवाल भी पूछ रहे थे। एक ने कमेंट किया, “कौन है उनकी गर्लफ्रेंड?” कई लोगों ने पूछा, “यह लड़की कौन है।” एक इंस्टाग्राम यूजर ने लिखा, “वाह अनिल कपूर की होने वाली बहू।” एक अन्य ने लिखा, “आप दोनों शानदार लग रहे हैं,” जबकि एक ने कमेंट किया, “कमाल।”

हर्षवर्धन ने इससे पहले एक इंटरव्यू में बताया था कि वह अपनी लव लाइफ को लेकर प्राइवेट रहना पसंद करेंगे। उन्होंने पिछले साल कहा था, ‘मुझे अपनी प्राइवेसी चाहिए। जिस तरह से मैं दिखता हूं, शायद यह थोड़ा भोला और आदर्शवादी है लेकिन मुझे एक फिल्म करना, इसके बारे में बात करना और फिर गायब होना पसंद है। मैं बहुत बोरिंग लड़का हूं, इसलिए मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।”

वर्कफ्रंट पर, हर्षवर्धन अपने पिता अनिल कपूर के साथ नेटफ्लिक्स की फिल्म ‘थार’ में दिखाई देंगे। फिल्म के स्टिल्स, जिसमें फातिमा सना शेख भी हैं, पिछले महीने नेटफ्लिक्स ने जारी किया था। फोटोज में अनिल खाकी वर्दी में एक पुलिसकर्मी के रूप में रेगिस्तान में एक साथी पुलिसकर्मी के साथ खड़े थे। हर्षवर्धन एक सॉलिड लुक में थे और वे पुलिस से बचकर भागते हुए दिखाई दे रहे थे। फातिमा को एक गांव की महिला के रूप में देखा गया था। थार की कहानी 1980 के दशक की है और यह एक ऐसे व्यक्ति की कहानी है जो एक बड़े शहर में नौकरी की तलाश में जाता है और अपने अतीत का बदला लेता है।

Back to top button