ट्रेंडिंगमनोरंजन

तो इसलिए भूखी रहती हैं निया शर्मा, बॉडी इमेज पर छलका दर्द

मुंबई – टीवी की मोस्ट पॉपुलर एक्ट्रेस निया शर्मा बी-टाउन में अपनी स्लिम बॉडी के लिए जानी जाती हैं। आए दिन वह अपने कर्वी फिगर को लेकर सुर्खियां बटोरती रहती हैं। हालांकि अपने आपको स्लिम बनाए रखना और ऐसी बॉडी कैरी करना एक्ट्रेस के लिए आसान नहीं है, उन्हें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

निया ने हाल ही में इस बारे में बातें की कि कैसे वह अपने स्लिम बॉडी बनाए रखने के लिए खुद को भूखा रखती हैं और कई बार ऐसा करने से वह बुरी तरह टूट जाया करती हैं। बता दें कि निया शर्मा इन दिनों अपने नए म्यूजिक एलबम ‘फूंक ले’ (Phoonk Le) को लेकर खबरों में छाई हुई हैं। इस गाने में निया कमाल का डांस करती हुई देखी गई। गाने को दर्शकों का जबरदस्त प्यार मिल रहा है, लोग निया के लटके-झटके पर फिदा हो गए हैं। इस गाने को प्रमोट करने में आज कल निया बेहद बिजी हैं।

आरजे सिद्धार्थ कन्नन के साथ बात करते हुए निया ने कहा कि उन्हें ब्लोटिंग की समस्या है और इस तथ्य के साथ अपने आप को कूल करने में काफी समय लगा कि मेरा पेट हर समय सपाट नहीं रहेगा। उसने खुलासा किया कि वह अपने शरीर के मुद्दों पर टूट जाती है। वह कहती है कि उन्हें अपने शरीर से कभी नफरत नहीं की, लेकिन वह ‘कई मुद्दों’ से जूझती रहती हैं, उन मुद्दों एक है भूखे रहना। वह कहती हैं, “मैंने खाना बंद कर दिया, यार। जब मैं कहती हूं कि मैंने खाना बंद कर दिया है, तो यह डाइट के बारे में नहीं है। मैं भूखी सोती थी मैं भूखी जागती थी, मैं भूखे पेट जिम जाया करती थी और एक टाइम पर मुझे मुझे भूख ही नहीं लग रही थी क्योंकि मैंने अपनी भूख खो दी थी। मैं बस उस गाने में इतनी मेहनत करना चाहती थी और मैंने किया। ऑन-पॉइंट मैं बस अपने पेट को देख रही थी और मैं ऐसा (स्लिम ) था।

इस दौरान वह निया ये स्वीकार करती हैं कि वह एवरेज दिखने वाली लड़कियों में एक है। वह कहती हैं कि मैं एक बहुत ही औसत दिखने वाली लड़की हूं और मैं इसे स्वीकार करती हूं, इस तरह की बात करने में कोई बुराई नहीं है। ऐसे में नफरत एक बहुत मजबूत शब्द है, ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे मैं अपने शरीर में बदलना चाहूंगी।

वह आगे कहती हैं, ”मुझे ब्लोटिंग की समस्या है, हो सकता है कि यह फ्रेज में है भी या नहीं, शायद यह मेरे दिमाग में था कि मैं एक ऐसी लड़की थी जो हर समय पतली थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता। मुझे इस बात को समझने में सालों लग गए कि साल में 365 दिन मेरा पेट सपाट नहीं हो सकता। यह संभव नहीं है, मैं खाऊंगी, मैं अपने शरीर में पानी डालूंगी, यह फूल जाएगा। मेरे पास केवल ये मुद्दे हैं, जिसमें मैं कभी निपट नहीं सकती।” निया शर्मा आगे ककहती हैं कि उन्हें बॉडी इमेज के मुद्दों से निपटने के लिए संघर्ष करना पड़ता है और कभी-कभी रोने और मंदी का सामना करना पड़ता है।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button