भारत

'मुस्लिम शख्स को पीटा, थूक चटवाया और कहा- बोलो 'जय श्री राम'

धनबाद – झारखंड के धनबाद जिले में शुक्रवार को सिटी सेंटर के पास भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं के एक समूह द्वारा एक मुस्लिम व्यक्ति को कथित तौर पर पीटा गया और ”जय श्री राम” का नारा लगाने के लिए मजबूर किया गया। इस बात की जानकारी झारखंड सरकार के अधिकारी ने दी है।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस पूरे मामले को लेकर जांच के आदेश दिए हैं। कहा जा रहा है कि 5 जनवरी को पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले में सुरक्षा उल्लंघन के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ताओं ने मुस्लिम शख्स के साथ बदसलूकी की है। एक खबर के मुताबिक, धनबाद के सिटी सेंटर के पास की ये घटना वीडियो में कैद हो गई। वीडियो में और बीजेपी कार्यकर्ताओं के समूह को मुस्लिम व्यक्ति को पीटते और गाली देते हुए दिखाया गया। वीडियो में शख्स को जबरन उठक-बैठक करने और सड़क पर थूकने के बाद चाटने के लिए मजबूर किया जाता है। उसे समूह द्वारा थप्पड़ और लात मारते हुए भी देखा गया, जबकि उन्हें यह कहते हुए सुना गया कि वह मुस्लिम हैं। हालांकि वीडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि अभी नहीं हो पाई है।

पूरे मामले की मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने धनबाद के उपायुक्त को जांच करने और उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। सीएम सोरेन ने एक ट्वीट में कहा, ”धनबाद के डीसी को घटना की जांच करनी चाहिए और कार्रवाई की रिपोर्ट हमें भेजनी चाहिए। राज्य में दुश्मनी के लिए कोई जगह नहीं है जहां लोग शांति से रहना पसंद करते हैं।”

पीड़ित मुस्लिम शख्स की पहचान धनबाद के वासेपुर के शमशेर नगर के रहने वाले के रूप में हुई है। पीड़ित के छोटे भाई ने बताया कि वह व्यक्ति मानसिक रूप से अस्थिर था, और उसका रांची के सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ साइकेट्री में इलाज चल रहा है। भाई ने कहा, ”हम में से केवल तीन ही अपने घर में रहते हैं। मैं और मेरी मां दोनों प्राइवेट जॉब करते हैं। जब मेरा भाई घर से निकला तो हम दोनों बाहर थे। घटना के बाद वह घर लौट आया है और उसकी तबीयत खराब है।”

पीड़ित मुस्लिम शख्स के भाई ने कहा, ”हालांकि हमने अभी तक अपने भाई के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ औपचारिक शिकायत दर्ज करने का फैसला नहीं किया है, लेकिन उन्हें वह नहीं करना चाहिए था जो उन्होंने किया। गाली-गलौज भी करते थे, तो उन्हें जबरदस्ती धार्मिक नारे लगाने और सड़क पर थूकने और चाटने के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए था। वे उसे पुलिस को सौंप सकते थे।”

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button