ट्रेंडिंगभारत

ऐसे चलता है PM का काफिला, बेहद कड़ी होती है सुरक्षा, फिर कैसे हुई चूक?

नई दिल्ली – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को पंजाब के फिरोजपुर में रैली को संबोधित करने जा रहे थे. जहां अचानक रैली का कार्यक्रम रद्द हो जाने के चलते पीएम का काफिला वापस लौट रहा था. तभी हुसैनीवाला में दूसरी तरफ से प्रदर्शनकारी किसानों के अचानक आ जाने से पीएम का काफिला एक फ्लाई ओवर पर करीब 20 मिनट तक रुका रहा.

जिसे पीएम की सुरक्षा में भारी चूक माना जा रहा है. हालांकि पीएम के काफिले को लेकर पहले से रूट और वैकल्पिक मार्ग भी तय रहते हैं. प्रधानमंत्री की सुरक्षा देश में सबसे ज्यादा कड़ी होती है. जिसका जिम्मा स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) पर होता है. एसपीजी का गठन साल 1988 में हुआ था. एसपीजी 4 भागों में काम करती है. ऑपरेशन्स, ट्रेनिंग, इंटेलिजेंस एंड टूर्स और एडमिनिस्ट्रेशन. प्रधानमंत्री बुलेटप्रुफ, रेंज रोवर, मर्सडीज और बीएमडब्ल्यू 760एलआई (BMW 7-Series 760Li) में सफर करते हैं. हाल ही में प्रधानमंत्री के काफिले में मर्सडीज की लिमोजिन भी शामिल की गई है.Mercedes Maybach S650 Guard भी पीएम मोदी के काफिले का हिस्सा है. ये कार कई सुरक्षा खूबियों से लैस है.

Mercedes-Maybach S650 Pullman Guard कार में VR10 स्तर की सुरक्षा है. इसकी बॉडी को विशेष धातु से बख्तरबंद बनाया गया है, जो इसे किसी अभेद्य किले की तरह बनाती है. ये कार 2 मीटर दूर से किए गए 15 किलोग्राम टीएनटी के विस्फोट को भी सहन कर सकती है. इतना ही इस कार पर पॉलीकार्बोनेट की कोटिंग है जो कार में बैठे लोगों को विस्फोट से बचाती है. अगर पीएम पर गैस से अटैक किया जाता है तो इस कार का कैबिन गैस-सेफ चैंबर में बदल जाता है. बैकअप के तौर पर कार में ऑक्सीजन टैंक मौजूद होता है. इसमें सेल्फ सीलिंग फ्यूल टैंक भी होता है, जिसमें किसी भी हालत में विस्फोट नहीं हो सकता. इसके अलावा सुरंगों और बमों को झेलने के लिए कार में नीचे की तरफ आर्मर प्लेट्स होती हैं. इसके अलावा कार में इमरजेंसी एग्जिट होती है. इसके साथ ही कार के शीशे भी बुलेट प्रूफ होते हैं.

पीएम के काफिले में उनकी विशेष कार के समान ही दो डमी कारें भी चलती हैं. साथ ही जैमर काफिले का अहम हिस्सा होता है. जिसके ऊपर बहुत-से एंटीना लगे रहते हैं. जैमर के एंटीना सड़क के दोनों तरफ 100 मीटर की दूरी पर रखे विस्फोटकों को डिफ्यूज़ करने की क्षमता रखते हैं. काफिले में चल रही सभी गाड़ियों में एनएसजी के निशानेबाज कमांडो तैनात रहते हैं. प्रधानमंत्री के काफिले में उनकी सुरक्षा के लिए करीब 100 लोगों की सिक्यूरिटि टीम चलती है.

जब प्रधानमंत्री दिल्ली या अन्य किसी राज्य में कहीं जाते हैं, तो सुरक्षा कारणों से उनका रूट करीब 7 घंटे पहले तय होता है. इसके साथ ही वैकल्पिक मार्ग भी तय रहते हैं. जिन पर पहले से ही रिहर्सल होता है. जिस रास्ते से प्रधानमंत्री को गुजरना होता है, उस रास्ते पर 4 से 5 घंटे पहले ही दोनों तरफ हर 50 से 100 मीटर की दूरी पर पुलिस वाले तैनात किए जाते हैं. पीएम के काफिले के गुजरने से ठीक 10 से 15 मिनट पहले उस रूट पर आम आवाजाही पर पूरी तरह से रोक लगा दी जाती है. लोकल पुलिस सड़क के दोनों तरफ मुस्तैद रहती है.

पीएम के काफिले के आगे दिल्ली या संबंधित राज्य की पुलिस की गाड़ियां चलती हैं. जो रूट क्लीयर करती हैं. स्थानीय पुलिस ही एसपीजी को रास्ते पर आगे बढ़ने की सूचना देती है. इसके बाद काफिला आगे चलता है. पीएम के काफिले के लिए हमेशा दो वैकल्पिक मार्ग भी तय रहते हैं. मुख्य मार्ग में कोई तकनीकी या अन्य समस्या होने पर एसपीजी वैकल्पिक मार्ग का इस्तेमाल करती है. अगर पीएम वायुयान से यात्रा कर रहे होते हैं. तो मौसम खराब होने पर भी वे वैकल्पिक सड़क मार्ग से ही यात्रा करते हैं, जो पहले से ही तय रहते हैं.

जब प्रधानमंत्री का काफिला दिल्ली के अलावा किसी अन्य राज्य में होते हैं. तो उनके सुरक्षा घेरे में बाहरी घेरे की जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस की होती है. पीएम के दौरे से ठीक 3-4 दिन पहले एसपीजी पूरे रास्ते का अवलोकन कर रूट तय करती है. साथ ही दो वैकल्पिक रूट भी तय कर लिए जाते हैं और उन दोनों वैकल्पिक रास्तों पर भी मुख्य मार्ग की तरह सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए जाते हैं. अगर किसी भी स्थिति में पीएम का रूट बदलता है, तो एसपीजी इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस के साथ साझा करती है. अंतिम समय तक ये तय नहीं होता कि पीएम किस रूट से निकलेंगे. ये सब सुरक्षा के लिहाज से किया जाता है.

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button