Big news App
ट्रेंडिंगभारत

Cyclone Jawad : 3 राज्यों में तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान

नई दिल्ली – Cyclone Jawad के आज शनिवार को उत्तरी आंध्र प्रदेश में पहुंचने की संभावना के बीच राज्य सरकार ने तीन जिलों से 54,008 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया है. जबकि ओडिशा में साइक्लोन को देखते हुए 19 जिलों में स्कूल और जन शिक्षा विभाग से संबद्ध सभी सरकारी, सहायता प्राप्त तथा निजी स्कूल आज बंद रहेंगे.

खतरे को देखते हुए आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा समेत पूर्वी राज्यों में राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की 64 टीमों को तैनात किया गया है. आंध्र प्रदेश सरकार ने तटीय क्षेत्रों में राज्य आपदा राहत बल की टीमों को भी तैनात किया है. रेस्क्यू टीम ने आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले से 15,755, विजयनगरम से 1,700 और विशाखापत्तनम से 36,553 लोगों को निकाला है. साथ ही सरकार ने स्कूलों और सामुदायिक हॉलों में 197 राहत शिविर स्थापित किए हैं. राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की 11 टीमों को तैनात किया गया है, जबकि राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) की 5 टीमें और तटरक्षक बल की 6 टीमें तैनात की गई हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक, आंध्र प्रदेश सरकार ने स्कूलों और सामुदायिक हॉलों में 197 राहत शिविर स्थापित किए हैं. ग्राम सचिव और जिला कलेक्ट्रेट रातभर कार्य करेंगे. दो हेलिकॉप्टर को स्टैंडबाय पर रखा गया है. किसी भी अप्रत्याशित स्थिति से निपटने के लिए एक करोड़ रुपये जारी किए गए हैं. मौसम विभाग के पास उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 130 साल के बाद दिसंबर में कई साइक्लोन ओडिशा के तट से टकरा रहा है. मौसम विभाग का कहना है कि जब से मौसम विभाग ने डाटा रखना शुरू किया है तब से दिसंबर में ज्यादा साइक्लोन नहीं आया है. दिसंबर में आखिरी बार 130 साल पहले 1891 में साइक्लोन ओडिशा के तट से टकराया था. और इसके बाद यह रिकॉर्ड नहीं किया गया.

पिछले 24 घंटों के दौरान उत्तर, उत्तर-पूर्व की ओर फिर से और ओडिशा तट के साथ आगे बढ़ने की संभावना है. साथ ही निरंतर हवा की गति 80 से 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से रहेगी. इसके अधिकतम 100 किमी प्रति घंटे तक जाने की संभावना है. तेज हवा की वजह से पेड़ और बिजली के खंभे के उखड़ने की संभावना है.

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button