Big news App
भारत

Cyclone Yaas : यास ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल में मचाई तबाही, देखें बर्बादी का मंजर

नई दिल्ली – ओडिशा में बुधवार सुबह लैंडफॉल के बाद यास ने ओडिशा-पश्चिम बंगाल के सीमावर्ती इलाकों में जमकर तबाही मचाई। इस दौरान तूफान निचले इलाकों तक पहुंचा और कई पेड़ों को जड़ से उखाड़ दिया। खबर है कि अब तक कम से कम 5 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच बुधवार रात यास की झारखंड की सीमा में प्रवेश कर चुका है। हालांकि मौसम विभाग ने खबर दी है कि तूफान कमजोर हो रहा है।

इस तूफान की वजह से बंगाल में 3 लाख घर उजड़ गए। 1 करोड़ लोग प्रभावित हुए। तूफान का ऐसा ही असर ओडिशा में दिखा। भीषण चक्रवाती तूफान यास की वजह से ओडिशा और बंगाल में तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। ओडिशा और बंगाल से आई इन अलग-अलग तस्वीरों से तूफान से हुई तबाही का अंदाजा लगाया जा सकता है। तेज हवा और बारिश से सड़कों पर कई फीट पानी भर गया। जिसकी चपेट में गाड़ियां आ गई। लोगों की मदद के लिए जा रही जेसीबी मशीन भी तूफान के चपेट में आकर फंस गई। लेकिन इस बीच तूफान से टक्कर लेने में पूरी मशीनरी लगी रही। सेना, सरकार, सिस्टम से जुड़े लोग अलर्ट मोड में रहे।

गाड़ी, घर, मकान, दुकान और भीमकाय पेड़ों को जड़ समेत उखाड़ फेंकने वाले महातूफान यास का ये रौद्र रूप था। ये चक्रवाती तूफान की महातबाही की शुरुआती झलक भर थी। बर्बादी का ये बवंडर इससे भी ज्यादा विनाशक था। यास का खतरा कितना बड़ा था वो इस चक्रवाती तूफान की रफ्तार से समझा जा सकता है। तूफान का ये कहर तीन घंटे तक बरपा। 3 घंटे के लैंडफॉल के दौरान यास तूफान ओडिशा के भद्रक और बालासोर में अपने चरम पर था और इन्हीं जगहों पर सबसे ज्यादा तबाही की आशंका भी जताई गई थी।

यास के कारण नदियों में जलस्तर बढ़ने से पश्चिम बंगाल के तटीय जिले पूर्वी मेदिनीपुर और दक्षिण 24 परगना के कई इलाकों में पानी भर गया। साथ ही कई छोटे-छोटे गांव और कस्बे जलमग्न हो गए। पश्चिम बंगाल के कोलकाता, हावड़ा और हुगली में भी तूफान का असर दिखा। तूफान की वजह से हल्दिया पोर्ट पर भी उफनती लहरों का प्रहार दिखाई दिया।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button