Big news App
भारत

किसान आंदोलन को आज पुरे हुए 6 महीने, मना रहे हैं ‘काला दिवस’

नई दिल्ली – कोरोना महामारी के बीच संयुक्त किसान मोर्चा ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ आज देशभर में काला दिवस मनाने का आह्वान किया है, क्योंकि आज ही उनके विरोध प्रदर्शन को छह महीने पूरे गए हैं। किसानों ने सभी देशवासियों से समर्थन मांगते हुए उन्हें अपने घर और वाहन पर काला झंडा लगाने और मोदी सरकार के पुतले जलाने की भी अपील की है। किसानों के इस आह्वान के मद्देनजर दिल्ली पुलिस भी सतर्क हो गई है।

आज किसान जगह-जगह धरने-प्रदर्शन करेंगे। किसानों के इस प्रोटेस्ट को देश की दर्जन भर से ज्यादा विपक्षी पार्टियों ने भी समर्थन देने का ऐलान किया है। इस प्रदर्शन को सफल बनाने के लिए बड़ी तादाद में यूपी, हरियाणा और पंजाब से किसानों के नए जत्थों के दिल्ली बॉर्डर पर पहुंचने का सिलसिला जारी है। खास बात यह है कि यह विरोध प्रदर्शन उस दिन किया जा रहा है, जब 2014 में नरेंद्र मोदी ने पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

इधर दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि ‘हमने किसानों से अपील की है कि जिस तरह कोरोना में दुर्दशा हुई और लोगों की जान गई है, इसलिए कोई कार्यक्रम करने या भीड़ जुटने के कारण वो स्थिति फिर से पैदा न हो। प्रदर्शन करने या लोगों को इकट्ठा करने की इजाजत नहीं है। यदि कोई व्यक्ति गैरकानूनी काम करेगा या कोरोना नियमों को तोड़ने का प्रयास करेगा तो हम उस पर सख्त कार्रवाई करेंगे।’

उधर देश के 14 प्रमुख विपक्षी दलों ने संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आहूत देशव्यापी प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है। कांग्रेस, जेडीएस, एनसीपी, टीएमसी, शिवसेना, डीएमके, झामुमो, जेकेपीए, सपा, बीएसपी, आरजेडी, सीपीआई, सीपीएम और आम आदमी पार्टी भी है। साथ ही केंद्र सरकार को किसानों से वार्ता करने की मांग की है। इससे पहले संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने 21 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर तीन कृषि कानूनों पर बातचीत फिर से शुरू करने का आग्रह किया।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button