Big news App
कोरोना

जहां-जहां इंडियन वेरिएंट का जिक्र उसे तुरंत हटाएं, केंद्र ने सोशल मीडिया कंपनियों से कहा

नई दिल्ली – केंद्र सरकार ने सभी सोशल मीडिया कंपनियों को कोरोना वायरस के B.1.617 वेरिएंट के लिए “इंडियन वेरिएंट” का इस्तेमाल करने वाले कंटेंट को अपने प्लेटफॉर्म से हटाने को कहा है। दरअसल केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इसे लेकर सोशल मीडिया कंपनियों को एक पत्र भेजा है। जिसमें लिखा-इससे कोविड-19 से जुड़ी गलत सूचनाओं के प्रसार को रोका जा सकेगा।

भारत सरकार ने इसी महीने वायरस के इस स्वरूप के लिए “इंडियन वेरिएंट” शब्द इस्तेमाल होने पर आपत्ति जताई थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 11 मई को कहा था कि पिछले साल भारत में पहली बार पाया गया कोरोना वायरस का B.1.617 वेरिएंट वैश्विक चिंता का वेरिएंट बताया था। इसके अगले दिन भारत सरकार ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि मीडिया में कुछ रिपोर्ट में बी.1.617 वेरिएंट को कोरोना वायरस के “इंडियन वैरिएंट” के रूप में बताया जा रहा है, जो निराधार और बेबुनियाद हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा था कि WHO ने अपने 32 पन्नों के दस्तावेज में कोरोना वायरस के B.1.617 वैरिएंट के साथ “भारतीय वैरिएंट” शब्द नहीं जोड़ा है।

पत्र में लिखा- यह पूरी तरह गलत है। इस तरह का कोई वेरिएंट WHO ने वैज्ञानिक रूप से नहीं बताया है। WHO ने कोरोना वायरस के B.1.617 वैरिएंट के साथ ‘भारतीय वैरिएंट’ शब्द को नहीं जोड़ा है।” स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से इस मामले में 12 मई को ही सफाई दे दी गई थी। एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि इस तरीके का शब्द इस्तेमाल करने से गलत सूचना फैल रही है और देश की छवि खराब होती है। वहीं एजेंसी से एक सोशल मीडिया एग्जिक्यूटिव ने कहा कि इस शब्द से जुड़े सभी कंटेंट को हटाना मुश्किल होगा, क्योंकि इस तरह के हजारों पोस्ट होंगे।

download bignews app
Follow us on google news
Follow us on google news

Related Articles

Back to top button